Sunday, April 22, 2012


Om the Logic of the world,
Unexpected the magic of the world..

It's the denominator of the earth or soul
It sways with wind, it pours with rain..

Dark originated but has a shining light,
The immense hope, as the sun after every gloom night..

A vibe revolves from hermitage to monastery,
Power within all, which embraces in the trance factory..

A revered word which overflows with its own energy but inquisitive to find ,
Tumultuous and potential yet profound like a seed in the land of mind..   

Beam of light that peeps and beams the universe,
Accompanied with monks in all their ups and in all adverse..

It is in a rill of tears rolling down the ocean of eye,
It is immortal throughout, beyond birth or demise

It enlightens faith even in the averse and the accursed
People practice it with strong beliefs and then the meditation occurs ..

Deep as ocean and vast as sky,
Motion in the earth and clouds very high..

The layer of ice on the top of the hill,
Chant is a way and Om is the feel..

Wednesday, April 11, 2012

नन्हे फूल

 नन्हे-नन्हे हाथों में  वह छाले देख मन रोता है,
इनकी सूनी आँखों में भी कहीं एक सपना रहता है..
व्यथा इनकी गहरी है यहाँ अरमान डूबाया जाता है,
एक दो वक़्त की रोटी को इंसान दबाया है..

कोयले की खानों में ही हीरे अक्सर मिलते हैं, 
खैर तराशे नहीं जाते, यहाँ तो कोयले ही बिकते हैं..
कभी गौर से देखो तो समझो, कोयला नहीं जो तपता है, 
यह तो आंच है दुर्भाग्य की जिसमे भोला बचपन जलता है...

छोटे से इन बच्चों से सर्कस की बढती शान है,
खेल में ताल-मेल बैठाते अद्भुत इनके कमाल हैं..
कभी गौर से देखो तो समझो, यह ताल-मेल गुम है इनके जीवन में,
कलम पकड़ने की उम्र में इन्हें करतब सिखाया जाता है..

लोगों को नाच दिखाते, देख इन्हें मन कहता है,
यहाँ बीच सड़क अभिशाप की थाप पर तांडव होता है..
कभी गौर से देखो तो समझो, यह नृत्य नहीं है उमड़ा हुआ,
यह तो उत्सव है इनकी गरीबी का जो रोज़ मनाया जाता है...

एक बार इन्हें भी जीने का अवसर मिलना क्या उचित नहीं?
अपनी हित पूर्ति के लिए क्या इनका बलिदान अनुचित नहीं?
कभी गौर से देखो तो समझो, ये अँधकार में घिरे हुए,
अँधेरे के बाद ही तो एक नया सूर्य उदय होता है...

Monday, April 9, 2012

The Queen’s Meadow-Ranikhet

The shining crowns of big Himalayan range in the sun appeared as beautiful as always. The big pine and oak trees around depicted a very beautiful landscape. We crossed gateway of the Kumaon Regiment centre into Ranikhet. Our eyes constantly roved around the charming scenery. The pleasant soothing breezes and fragrance of swaying pine trees welcomed us in Dev Bhoomi. We were at an altitude of 1869 meters above sea level and within the sight of the western peaks of Himalayas which was just opposite to the Delhi’s busy lifestyle. Almost over 250 km and 12 hours tiring journey turned to be very fruitful after reaching the peaceful destination. We were at the Ranikhet bus stop with our bags. It was a sunny day though chilly. We sat in a small Dhaba near the bus stop and ordered rayta and Pakoras. “It is a great feeling to be here once again, my land, my pride. I can’t forget even a single moment spending here during school time. What were those days? Nostalgic” Manish initiated the conversation. “Yes bro, this is a true creation, beautifully painted by God. You were fortunate enough to have studied and spent your school days here.” said Vicky, moving his eyes through the ice sheeted Himalayan range. Ashish was busy, capturing the nature from his mobile phone. He kept clicking images until phone’s memory went full. All five of us were at the height of excitement. “I don’t want to go back, Delhi is horrible with full of rush, busy lifestyle, noise and pollution. Here I find peace, even we can hear a wind whistling around.” I proved my presence in the conversation. “Well said bro, and a good thing about Ranikhet is less commercialization that keeps the glory of the place.”Niraj proceeded, putting an essence of his knowledge. 

It was 4 pm we entered in Parwati inn. The entrance was beautifully decorated with red and white balloons and a small pine tree was well bedecked on the Christmas occasion last night by inlaying various gifts. The vivid lighting, making amazing designs on the wall created a very good ambience. A small gold painted statue of laughing Buddha and comfortable wooden Sofas fetched us. We kept our bags on the imported wooden surface and filled the check in formalities. The hotel had 32 rooms spread across 3 floors, each room was well furnished and provided with the modern amenities of life. All the rooms had an individual balcony for the guests to sit out. A multi-cuisine restaurant was associated with the hotel. We were provided with the television and telephone facilities and an attached bathroom with running hot water. It was a well lit room, equipped with a nice bed covered in beautiful bed sheet gave a heavenly feeling with the pleasant wooden fragrance. There were some magazines kept on the tables for the guests. We settled down, reposed our head on the cosy cushions and took a short nap.     

It was 5.30 in the evening. We moved out our room to explore the place.
The sun was about to turn off behind the clouds and was slipping down slowly towards the mountains with the supreme performance of vivid colours on canvas of the sky. The sun turned orange, golden and then gray liked the splash of various colours in the drawing competitions, which reminded me of great art performances in the movie “Taare zameen Par”. That was a natural creation which could not be awarded in the art museums. Bird’s chanting was the only noise left in silence of the evening. The place became calm, wind turned colder and with the fraction of seconds it was just uncountable stars in the sky. We all appreciated the breath taking Sun set on the hill. We were feeling shivery as the cold ice breezes decreased the temperature of the place. Day melted off and so did we..

Next day in Chaubatia gardens -

After visiting the most famous Apple orchards (Chaubatia gardens), we were still in the flavours of more than 200 varieties of flowers and fruits. It was exotic surrounding with most scenic views of snow clad mountain peaks of Himalaya. Chaubatia is a junction of four paths, inter-linking Ranikhet, Bhargoan, Pilkholi and Dehrti. It is also known for its fruit gardens run by Government fruit research centre. Many local tourist guides started chasing us right from the time we reached at Chaubatia to take us on the nature walks through the gardens and forests. They claimed to have in-depth knowledge of the flora and fauna of the place. But we did not hire one because they looked more interested in search of our pockets than offering us the researched knowledge about flora. Ironically, while following, we found their services to be seriously productive as they truly revealed the secrets of those dense forests to other tourists. We felt proud to be updated for free and high fived each other.
With cherishing memories, I found myself lost in that Himalayan range. My soul resides there in my land. 

A lovely journey came to an end with so many good things behind.

Sunday, April 8, 2012

मेरे शेर..:D

गज़ालों की उस जुम्बिश में हमने भी अपनी एक नज़्म पेश की,
उठ खड़े हुए सब सर ज़मीन से,  
हवाओं में लहराती वाह-वाही ने हमारी ताज पोशी की.. 

कदमों के लड़खड़ाने को तुम मदहोशी न समझो,
ये तो यूँ है की हमें मंजिल आसान पसंद नहीं...

रातें खुश नुमां, दिन धुआं,
अब तो हाल ये है की उजालों से डर लगता है हमें..

इस ही तरह दिन बदले, रातें गुज़री, ज़माने रुकसत हुए कई,
कई परिंदे जुदा हुए, कई ख्वाब धुआं, कई क़ैद में ही रहे,
थे कुछ जो उड़ गए वो भी जकडे गए आसमानी जंजीरों में,
क्या खुला आसमां भी कहीं थमता है?
इस ही सवाल में उलझे हुए बस हम अभी तक हैं यहीं...

मेरी नज़र और नजरिया दोनों में तुम हो,
नज़र तुम पर अर्ज़ है और नजरिया खुद का मुकरर्र..

रात भी शबाब पर है आज और चाँद भी पूरा है,
सितारे भी गिनने को है फलक पर और बादलों का मेला है..
ऊपर खुला आसमां जैसे बुला रहा है ये कहता हुआ, 
की बस रात ही है जिसमे तुझे खोना है, 
दिन तो हर रोज़ तू एक नया खोता है..

राह की तलाश में गुमराह में चलता रहा,
न मैं हारा कभी, न राह-ए-उलझन सुलझी...

ये मेरा खालीपन है या उसकी जुदाई है,
नूर बरसा दे मुझ पर, तेरी खुदाई है ..
शमा-ए-इश्क की लौ में हम इस कदर जल गए,
न दिखे हम, न घाव, रूह लुट गई बस धुँए रह गए..
दुनिया में आशिकों कमी न थी, 
हम ही थे जो गम के हवाले रह गए..
मिट गए सारे नज़ारे, रौशनी,
हम सूनी गलियों को गम के रखवाले रह गए..
कहा है खूब उस शायर ने भी की,
घर से तो हम चले थे खुशियों की चाह में, 
गम राह में खड़े थे वो भी साथ हो गए..
शमा-ए-इश्क की लौ में हम इस कदर जल गए,
न दिखे हम, न घाव, रूह लुट गई बस धुँए रह गए..

इन लफ़्ज़ों की आवा-जाही में हर पल फसते हैं मेरे अलफ़ाज़,
के यहाँ अदब से आदाब नहीं मिलता और शादाब से शब नहीं घटती..

सीने में रौशन मेरी खामोशी सब दफ्न कर देती,
पर तेरी चीखों ने सभी दर्द फिर से आज़ाद कर दिये..

रोज़ रात अपने बिस्तर पर धसा हुआ मैं खुली आँखों को बढा कर 
देर तक कुछ सोचता हूँ, कुछ ढूँढता,
उस ख्वाब की तकमील तलाशता हूँ शायद,
जिसके आगाज़ की तारीख मैंने अभी तय नई की...

रात बस मलाल में डूबा मैं खो गया,
निगल गया अँधेरा मेरे साये को, मैं तन्हा सा हो गया..
चाँद सोया हुआ और सब लौ गुम,
किससे करूँ शिकवा की ये क्या हो गया?
एक तारे की हुई फज़ल, वो टिमटिमाया,
तो हल्की रौशनी में मुझे मेरा साया नज़र आया..
बड़े एतीहात से करना चाहता था इस्तेकबाल उसका,
पर नींद से लड़ता हुआ मैं फड़फड़ा के बुझ गया,
अब मैं शिकस्ता सो रहा मेरा साया जी गया...

सांस अभी बरक़रार है, मुझको महसूस होती है,
खुली आँखों में ये दुनिया मेरी नज़रों मन बंद रहती है..
आवाज़ बाकीं है अभी, गूंजती है कमरे में,
दीवारें आज भी कभी कभी मेरे राज़ सुनती हैं..
हाथ पैर हिलते भी हैं झूलते हुए तो यकीं है के मैं जिंदा हूँ,
वगरना जीस्त के इस सुकूं को लोग मेरी लाश कहते हैं..

दिनों को रातों में तब्दील होती देखती हैं ये निगाहें रोज़,
सूरज को बुझा कर, रौशनी चिरागों में ढूँडती हैं ये निगाहें रोज़
सच की तलाश में रहती मगर एक नया भ्रम खोजती हैं ये निगाहें रोज़..

फिसलती अक्सर हाथों से, ये रेतें आज़ाद हैं
या की फिर मुट्ठी की पकड़ कमज़ोर है..

बादलों की कहानी भी अजीब है, 
कभी बरसना है गरज कर तो कभी हवा की ठोकरें हैं..

मैं तो शीशा हूँ, 
मेरा अपना कोई वुजूद तो नहीं..
न नाम है मेरा जुदा कुछ,
मुख्तलिफ कोई अंदाज़ भी नहीं..
न ही ख्वाबों के मंज़र,
न उम्मीदों के मकां,
न चमकने की ख़ुशी,
और न टूट जाने का गम कोई..
जज्बातों में क़ैद मैं होता नहीं,
न ही एहसासों की समझ कोई... 
न ही गिरने का डर और बिखरने का दर्द,
मैं तो सिर्फ शीशा हूँ, कोई शख्सियत तो नहीं..
हो तुम जो हो दिखता हूँ, 
नहीं अगर पसंद, मेरा कुछ कुसूर तो नहीं..
मैं तो सिर्फ शीशा हूँ, 
मेरा अपना कोई वुजूद तो नहीं..

राख ही नहीं यहाँ थे निशाँ-ए-ज़िन्दगी भी,
शोर-ओ-गुल में चूर थे, अब जो सन्नाटों में तैरते हैं
तूफानों के शोर में भी राग हैं जो गूंजते से,
उनको सुन कर फूलती नसों में खून झूमते हैं...
थे न काबिल के तब रुसवा किया था तूने हमे,
तुझ में ही खोये रहे, अब खुद को भी हम खोजते हैं..
के गिर गए जो टूट कर लहरों में दफ़्न थे कुछ महल..
आज भी उन रेतों में हम अपने मकाँ को ढूंढते हैं..

ये तो शब-ओ-रोज़(दिन-रात) का तमाशा है,
के जहाँ से आये थे वहीँ को निकल पड़े,  
जो पड़े थे बिस्तर पर लाश की तरह रात भर,
सहर होते ही मुर्दे भी रूह तलाशने निकल पड़े..

शहर में चीखें तैरती हैं कश्ती की मानिंद, 
सैलाब एक सिलसिला हुआ जो मुसलसल चल पड़ा है,
शख्स तो वो मोम है जो आंच से पिघल जाए 
ये कौन आतिश है जिससे बयाँबा जला है.. 
नहीं आती न सही कज़ा, ज़िन्दगी कटती नहीं तो क्या,
पूछ जहाँ बिन बुलाये पहुची ये कैसी बेहया है..
तेरे दर पे या रब ये कैसा है मंज़र,
कभी काबा था जो, आज कब्रिस्तां हुआ है 

बादल थे मेरे ख्वाब टंगे रहते थे आसमाँ पर।
अबके मौसम ख़राब था, के आँखें बरसी जमकर। 
उमस भरे घर में घुटते हुए यूँ, 
क्या देखा है तुमने भी 
टपकते ख्वाबों को 
खिड़की से झांक कर??